A dedication to a Friend :)

November 2, 2009 at 9:05 am 2 comments

जो सजाये है मोहब्बत के आशियाने
वोह सीने में एक बड़ा दिल सजाये रखते है
कहते कुछ नही कभी जुबान से मगर
सब के लिए दिल के दरवाजे खुले रखते है

औरो की खुशी के लिए छुपा लेते सचाई
और दुश्मनो को भी माफ़ किया करते है
दिखता है खुली आँखों से वोह भी सब
पर औरो को हसी दे खुदको जलाया करते है

अब तो बन गए है वोह मेरी प्रेरणा
मुझे अक्सर मेरी पहचान कराया करते है
सादगी है उनकी आँखों में, उनकी बातो मा
जाने अनजाने मुझे अक्सर रुजाया करते है

कैसे करू मैं शुकर ऐ गुजार उनका
वोह हर मजिल मेरा साथ निभाया करते है
ख़बर नही है उनको की हम उनके कायल है
वोह मुझसे ख्वाबो में मिलने आया करते है

हम तो बाला दोस्ती के काबिल नही उनके “दिव्या”
वोह थो ख़ुद हसकर , मुझे हँसाया करते है

Divya

Advertisements

Entry filed under: shayri e dost. Tags: .

Eh Jaanemann, Suno tho Sanam !! Jahan Pyaar Hi Kashti Ho, Pyaar Hi Kinaara Ho !!

2 Comments Add your own

  • 1. Giriwar Sharma  |  November 6, 2009 at 6:56 pm

    a fine depiction of the emotions.

    Reply
    • 2. Divya  |  November 10, 2009 at 3:09 pm

      Thanks a lot Mr. Sharma

      Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Trackback this post  |  Subscribe to the comments via RSS Feed


Copy Right Reserved

Page copy protected against web site content infringement by Copyscape

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

Blog Stats

  • 40,982 hits
November 2009
M T W T F S S
« Sep   Dec »
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30  

Careerjet – Find jobs

www.careerjet.co.in

Divyakishayari

Error: Twitter did not respond. Please wait a few minutes and refresh this page.


%d bloggers like this: